नितिन गडकरी का जीवन परिचय | Nitin Gadkari Biography in Hindi

नितिन गडकरी का जीवन परिचय  (Nitin Gadkari Biography in Hindi)

नितिन गडकरी भारतीय राजनीति का जाना-माना नाम हैं, वो भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं. गडकरी को एक सफल एंटरप्रेन्योर और एक ऐसे प्रगतिशील नेता के रूप में भी जाना जाता हैं जो सामजिक आर्थिक विकास के साथ ही पर्यावरण सुरक्षा पर भी विशेष ध्यान देते हैं. उन्हें फ्लाईओवर-मैन के रूप में भी जाना जाता हैं क्योंकि उन्होंने रोड, एक्सप्रेसवे और फ्लाई ओवर बनवाने में अमूल्य योगदान दिया हैं. राजनीति में वो आज जिस मुकाम पर हैं, वहाँ तक पहुँचने के लिए उन्होंने बेहद मेहनत की हैं.

Nitin Gadkari

क्र. म.(s.No.) परिचय बिंदु (Introduction Points) परिचय (Introduction)
1.    पूरा नाम ((Full Name) नितिन जयराम गडकरी
2.    जन्म (Birth Date) 27 मई 1957
3.    जन्म स्थान (Birth Place) नागपुर,महाराष्ट्र
4.    पेशा (Profession) राजनेता
5.    राजनीतिक पार्टी (Political Party) भारतीय जनता पार्टी
6.    अन्य राजनीतिक पार्टी से संबंध (Other Political Affiliations)
7.    राष्ट्रीयता (Nationality) भारतीय
8.    उम्र (Age) 62 वर्ष
9.    गृहनगर (Hometown) नागपुर
10.           धर्म (Religion) हिन्दू
11.           जाति (Caste) ब्राह्मिन
12.           वैवाहिक स्थिति (Marital Status) विवाहित
13.           राशि (Zodiac Sign) मिथुन

नितिन गडकरी का बचपन और प्रारम्भिक जीवन (Nitin Gadkari: Early life and Childhood)

  •  नितिन गडकरी का बचपन बेहद गरीबी और संघर्षों  में गुजरा था, उन्होंने अपनी आजीविका के लिए और परिवार के पोषण के लिए कम उम्र में ही कमाना शुरू कर दिया था.
  • नितिन ने महाराष्ट्र से एमकॉम और एलएलबी महाराष्ट्र से ही किया था, इसके अलावा उन्होंने बिजनेस मैनेजमेंट में डिप्लोमा भी किया.

नितिन गडकरी का परिवार और निजी जानकारी  (Nitin gadkari:Family and Personal Information)

पिता (Father) जयराम रामचन्द्र गडकरी
माता (Mother) भानुताई गडकरी
पत्नी (Wife) कंचन गड़करी
पुत्र (Son)

 

निखिल और सारंग
पुत्री (Daughter) केतकी

 

नितिन गडकरी का राजनैतिक करीयर (Nitin Gadkari: Political Carrier)

  • नितिन गडकरी बहुत कम उम्र में राजनीति में शामिल हो गए थे, उन्होंने छात्र राजनीति से अपना राजनैतिक जीवन शुरू किया. नितिन ने 1976 में अखिल भारतीय विद्या परिषद की सदस्यता ली थी. उन्होंने यूनिवर्सिटी के छात्र चुनाव में भी भाग लिया और उस दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने नागपुर यूनिवर्सिटी की सभी सीट्स जीती थी.
  • गडकरी ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के 28वें नेशनल कन्वेंशन का आयोजन भी किया था. उन्हें मात्र 24 वर्ष की उम्र में भारतीय जनता युवा मोर्चा का प्रेजीडेंट चुन लिया गया था. 1979 में गडकरी विदर्भ क्षेत्र के सेक्रेटरी बने. इसके बाद उन्होंने नागपुर यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट काउंसिल में सभी पद पर कार्य किया. 1985 में वो नागपुर शहर में बीजेपी के सेक्रेटरी बने और जब तक वो इस पद पर रहे उन्होंने विभिन्न जिलों में संगठन को मजबूत करने की कोशिश की.
  • 32 वर्ष की उम्र में वो नागपुर शहर के एम.एल.सी बने और लगातार अगले 4 चुनावों 1990,1996, 2002 और 2008 तक वो इस पद पर बने रहे.
  • 1992 में नागपुर म्युनिसिपल कोरपोरेशन में जीत दर्ज करवाकर उन्होंने बीजेपी में अपना स्थान सुनिश्चित किया और 35 वर्ष की उम्र में वो बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी बने. इसके बाद उन्हें महाराष्ट्र कैबिनेट में मंत्री का पद भी मिला. 42 वर्ष की उम्र में वो महाराष्ट्र लेजिस्लेटिव काउंसिल में विपक्ष के नेता बने.
  • 1995 में वो महाराष्ट्र सरकार में पी.डब्ल्यू.डी मिनिस्टर भी बने थे.1995 से 1999 तक वो एम्एसआरडीसी लिमिटेड के संस्थापक और चेयरमैन, नागपुर जिले में गार्डिंग मिनिस्टर और महाराष्ट्र में माइनिंग पोलीसी इम्प्लीमेंटेशन कमिटी के चेयरमैन भी थे.
  • 1995 से 1999 के दौरान ही भारत सरकार में वो नेशनल रुरल रोड डेवलपमेंट कमिटी के चेयरमैन भी थे, 2004 में गडकरी महाराष्ट्र राज्य में बीजेपी अध्यक्ष बने. वो महाराष्ट्र में ही मेट्रोपोलिस ब्यूटीफिकेशन कमिटी के चेयरमेन भी बने.
  • 26 मई 2014 को उन्होंने केंद्र सरकार में  यूनियन मिनिस्टर फॉर सर्फेस ट्रांसपोर्ट एंड शिपिंग का पद संभाला और 2017 में उन्होंने जल संसाधन, नदी विकास और गंगा पुनरोद्धार मंत्रालय संभाला इसके अतिरिकित उन्हें गोपीनाथ मुंडे के देहांत के बाद रुरल डेवलपमेंट, पंचायती राज एंड ड्रिंकिंग वाटर एंड सेनिटेशन का मंत्रालय भी दिया गया हैं.और 2019 के लोकसभा चुनाव में वो नागपुर से प्रत्याशी हैं. 

नितिन गडकरी की उपलब्धियां (Nitin Gadkari’s Achievements) 

  • गडकरी की उपलब्धियों में किसानों को ज्यादा अवसर उपलब्ध करावाने और उनका समग्र विकास शामिल हैं. गडकरी को ही भारत में पहली बार बायो-डीजल पम्प शुरू करने का श्रेय जाता हैं. इसके अलावा वो पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने सोलर ऊर्जा पर ध्यान दिया. मध्य भारत में सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क भी शुरू किया था. गंदे पानी से पॉवर जेनेरेशन प्रोजेक्ट भी आधुनिक जीवन में पर्यावण को बनाये रखने की अच्छी पहल हैं
  • नितिन गडकरी ने अपने पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट के कार्यकाल में पुल, फ़्लाइओवर और एक्सप्रेसवे जैसे काम करवाए, उन्हें प्रधानमंत्री ग्राम सेवक योजना के क्रियान्वयन का श्रेय भी जाता हैं. उन्होंने सेंट्रल पीडब्ल्यूडी को भी एक नयी दिशा दी. उनके दिए योगदान के कारण ही नागपुर जैसे शहर को आज सबसे सुंदर शहरों में से एक गिना जाता हैं. महाराष्ट्र में यशवंतराव चावण मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे भी गडकरी की उपब्ल्धियों में शामिल हैं.
  • उन्होंने केतकी ओवरसीज कम्पनी के बैनर तले फलों को एक्सपोर्ट करना शुरू किया. गडकरी निखिल फर्नीचर एंड एप्लायेंस प्राइवेट लिमिटेड के प्रोमोटर डायरेक्टर भी रह चुके हैं. नितिन पोली सैक इंडस्ट्रियल सोसायटी लिमिटेड के चेयरमेन और संस्थापक रह चुके हैं, ये कम्पनी पी-वी-सी पाइप बनाने का कार्य भी करती हैं.

नितिन गडकरी से जुड़े विवाद (Nitin Gadkari and Controversy)

  • नवंबर 2011 में गडकरी की सफेद हौंडा-सीआरवी में एक सफाई कर्मचारी की बेटी (जिसका नाम योगिता ठाकरे था) की लाश मिली, लोगों के अनुसार पुलिस ने मंत्री और उसके परिवारजनों को बचाया था. पुलिस के अनुसार वो इलेक्ट्रोनिक लॉक सिस्टम के कारण कार में बंद हो गयी और वहां दम घुटने से उसकी मौत हो गयी, लेकिन लड़की के परिवार वालों का कहना था कि उसका शारीरिक शोषण हुआ था फिर उसकी हत्या की गयी थी. पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के अनुसार उसके शरीर पर 19 घाव लगे थे, जिसमें गुप्तांग के घाव भी शामिल थे लेकिन डॉक्टर ने ये कह दिया कि गरीब लड़कियों में गुप्तांगों से जुडी ये आम समस्या हैं.
  • 2012 में की एक फर्म जिसका नाम “पूर्ति ग्रुप” था, पर पैसों के गबन और धोखाधड़ी के आरोप लगे थे. इसके बाद नितिन फिर से 2014 में ई-रिक्शा से जुड़े विवादों में गिर गये, जिसमें उनके परिवार की कंपनी पूर्ति ग्रीन टेक्नोलोजी प्राइवेटलिमिटेड को फायदा पहुंचाने का आरोप लगा था.
  • महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले असेम्बली इलेक्शन, इलेक्शन कमिशन ऑफ़ इंडिया ने एक गडकरी को एक नोटिस जारी किया, क्योंकि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान जनता को धन-राशि से सम्बंधित भाषण दिया और कहा था कि असंवैधानिक तरीके से अर्जित राशि का अब गरीबों तक पहुँचने का समय आ गया हैं.

इस तरह राजनीतिक शख्सियत होने के कारण नितिन गडकरी का विवादों से सामना होता रहता हैं लेकिन साथ ही वो एक लोकप्रिय एवं सक्रिय नेता की छवि भी रखते हैं.

Other Links:

  1. सर जॉन आलसेब्रूक साइमन जीवन परिचय
  2. लॉर्ड इरविन जीवन परिचय

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *