मोहम्मद अली जिन्नाह का जीवन परिचय | Muhammad Ali Jinnah Biography in Hindi

मोहम्मद अली जिन्नाह का जीवन परिचय ( Muhammad Ali Jinnah Biography in Hindi ) 

मोहम्मद अली जिन्नाह एक ऐसी शख्सियत है जिन्होने आजाद हिंदुस्तान के सपने को साकार करने मे तो योगदान दिया ही साथ ही इन्हे एक अलग राष्ट्र के गठन का श्रेय भी दिया जाता है. ये पाकिस्तान के संस्थापक तो है ही साथ मे इन्हे इस अलग राष्ट्र के प्रथम गवर्नर जनरल होने का गौरव भी प्राप्त है. ये एक वकील और राजनेता दोनों ही रूप में कार्य कर चुके है  . इसके अलावा यें ब्रिटिश शासन के दौरान भारत में सबसे प्रभावशाली राजनैतिक नेता में से एक थे . इन्होने अपने जीवनकाल में कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया, इन्हें हिन्दू मुस्लिम एकता का राजदूत कहा जाता था .

मुहम्मद अली जिन्नाह

मोहम्मद अली जिन्नाह के बारे मे कुछ जानकारी

नाम (Name)मोहम्मद अली जिन्नाह
कार्य (Profession)  राजनेता                           
जन्म तारीख (DOB)25 दिसंबर 1876
जन्म स्थान (Birth Place)कराची
मृत्यु  (Died )       11 सितम्बर 1948
राशी (Zodiac Sign)मकर राशी
नागरिकता (Nationality)पाकिस्तानी
धर्म (Religion)इस्लाम

शिक्षा एवं पारिवारिक जानकारी ( Education , Early Life , Birth and Family)

मोहम्मद अली जिन्नाह का परिवार मध्यम वर्गीय  और एक गुजराती व्यापारी परिवार था. ये सात भाई बहन थे , और ये शिया इस्लाम से संबंधित थे .  6 साल की उम्र में इन्होने सिंध मदरसा तुल इस्लाम में दाखिला लिया, इसके बाद ये आगे अध्यन के लिए मुंबई चले गए . इन्होने केथेड्रल और जॉन कानन स्कूल में दाखिला लिया, कुछ समय यहाँ बिताने के बाद वे वापस अपने माता पिता के पास कराची लौट गए . और वहां पुनः ईसाई मिशनरी सोसाइटी हाई स्कूल में दाखिला लिया . 16 साल की उम्र में  इन्होने लन्दन जाने का फैसला लिया और अपनी माँ से जाने के लिए अनुमति मांगी. ये जब 16 वर्ष के थे तब इनका विवाह एमीबाई से हुआ जोकि की इनसे आयु में दो वर्ष छोटी थी , ये विवाह नही करना चाहते थे , लेकिन अपनी माँ के कारण ये शादी के लिए तैयार हो गए . किसी कारणवश इनकी इनकी शादी नहीं चल पाई और इनकी माँ की भी जल्दी ही मृत्यु हो गई. इसके बाद जिन्नाह उच्च अध्ययन के लिए इंग्लैड चले गए . कुछ समय पश्चात इनकी मुलाकात रतनबाई से हुई, जिनसे इन्होने आकर्षित होकर विवाह किया और फिर कालांतर में इस दंपत्ति की एक बेटी हुई .

पारिवारिक जानकारी संक्षिप्त में : 

माता (Mother)मीठी बाई
पिता (Father)जिन्नाह्भाई पूंजा
बहन (Sister)फातिमा जिन्नाह

शिरीन जिन्नाह

पत्नी (Wife)इमिबाई जिन्नाह

रतनबाई पतित

पुत्री (Doughter)डीना जिन्नाह

राजनितिक जीवन (Political Career)

मोहम्मद अली जिन्नाह ने 20 साल की आयु में मुंबई में वकालत का अभ्यास शुरू किया , और इन्होने अपने वकालत के करियर को आगे बढाया . 1907 में इन्होने एक काकंस केस लड़ा और इस केस के बाद ये एक बहुचर्चित वकील बन गए . इन्होने कई बड़े बड़े पदों पर कार्य किया और अपने समुदाय के लोगो को आगे लाने के बेहद प्रयत्न किए .

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की 20 वी वार्षिक बैठक में इन्होने हिस्सा लिया , और राजनीती से इनका संबंध हुआ. 1906 में ये इंडियन नेशनल कांग्रेस में शामिल हुए और भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन का हिस्सा बने . तत्पश्चात इन्होने एक मुस्लिम लीग की बैठक में भाग लिया और कुछ समय के बाद इसमें शामिल हो गए परंतु इन्होने कांग्रेस को नहीं छोड़ा. इन्होने कांग्रेस और मुस्लिम लीग को साथ लाने का पूर्ण प्रयत्न किया . इनके जीवन का सबसे बड़ा फैसला था , पाकिस्तान की मांग और उसकी स्थापना .

पाकिस्तान की स्थापना (Establishment of Pakistan)

सर्वप्रथम 1930 के दशक के में मोहम्मद इक़बाल द्वारा भारत में एक अलग राष्ट्र की मांग का विचार लाया गया. 1940 में मुस्लिम लीग ने विभाजन की मांग की और अलग राज्य का गठन करने का प्रस्ताव रखा . 1947 में भारत की आजादी के साथ विश्व के नक्शे में एक नया राष्ट्र पाकिस्तान जुड़ा. पाकिस्तान की स्थापना के वक्त जिन्ना इसके गवर्नर जनरल बने परंतु दुर्भाग्यवश एक वर्ष के बाद ही इनका निधन हो गया . मुस्लिम लीग का इतिहास जानने के लिए यहाँ क्लिक करें 

मोहम्मद अली जिन्नाह के बारे में कुछ रोचक बातें ( Some other information about Muhammad Ali Jinnah) :

  • भारत में इनका बचपन का घर मुंबई में था , विभाजन के बाद इस घर को लेकर दोनों सरकारों के बिच काफी विवाद की स्थति बनी रही .
  • ये इंग्लैंड में कानून की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले सबसे कम उम्र के पहले भारतीय थे . 20 वर्ष की आयु में ये शहर में एक मात्र मुस्लिम बेरिस्टर थे और बाद में ये एक बेहद सफल वकील बने .
  • इन्हें अक्सर एक शेरवानी और टोपी में ही देखा जाता था, इस टोपी को जिन्नाह टोपी कहाँ जाता है , ये अक्सर एक व्यवस्थित वेशभूषा में ही नजर आते थे .
  • जिन्नाह हमेशा क्लास में रहते थे , उनके पास 200 से भी अधिक सूट थे , वे कभी अपनी एक टाई को दौबारा नही पहनते थे . यहाँ तक की अपनी मृत्यु के दौरान भी इन्होने औपचारिक रूप से कपडे पहनने और तैयार होने का आग्रह किया था.
  • जिन्ना सबसे महंगे वकीलों में से एक थे , वे उस समय 1500 रूपये तक कमाते थे . लेकिन जब पाकिस्तान की स्थापना की गई , तब इन्होने इनका प्रतिमाह वेतन 1 रूपये रखा, क्योकि ये वित्तीय बोझ के कारण एक नए राष्ट्र को ये ऋणी नही करना चाहते थे .

मोहम्मद अली जिन्नाह के नाम पर ऐतिहासिक धरोहर (Heritage based on his name)

  • मोहम्मद अली जिन्नाह को सभी पाकिस्तानी मुद्रा पर चित्रित किया गया है, इनके नाम पर कई सार्वजनिक संस्थाओ के नाम भी रखे गए है .
  • तुर्की की सबसे बड़ी सड़क सिन्ना कैडेसी का नाम इनके नाम पर रखा गया है . ईरान के तेहरान में मुहम्मद अली जिन्नाह एक्सप्रेस वे भी है .
  • आज इनके कारण पाकिस्तान की विरासत है , और इन्हें इस राष्ट्र का निर्माण करने का श्रेय जाता है . इसलिए इनके सम्मान में इनके नाम पर कई ऐतिहासिक धरोहर का नाम रखा गया है, कई स्कूल कॉलेज और यूनिवर्सिटी का नाम इनके नाम पर रखा गया है .

मोहम्मद अली जिन्नाह के अनमोल वचन (Famous quotes of Muhammad Ali Jinnah)

  • निर्णय लेने से पहले 100 बार सोचे , लेकिन एक बार निर्णय लेने के बाद , इसे एक आदमी के रूप में खड़े करे .
  • पाकिस्तान न केवल स्वतंत्रता और आजादी का मतलब है , बल्कि यह एक मुस्लिम विचारधारा जिसे संरक्षित किया जाना है , जो हमारे पास एक बहुमूल्य उपहार और खजाने के रूप में आया है , और इसे अन्य हमारे साथ साझा करेंगे .
  • मै सही निर्णय लेने में विश्वास नहीं रखता , मै निर्णय लेकर उसे सही साबित करने विश्वास रखता हूं .
  • कोई भी देश ऊंचाई तक नहीं बढ़ सकता है जब तक कि आपकी महिलाएं आपके साथ न हो .

मोहम्मद अली जिन्नाह के जीवन से लोगो को कई प्रेरणा मिलती है , उनकी निर्णय लेने की क्षमता और कार्यप्रणाली को आज भी लोग याद करते है .

Other Links:

  1. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) का इतिहास
  2. बीजेपी का इतिहास

 

Leave a Comment